दुर्गाष्टमी पर मंदिरों में हुए भंडारे, वैष्णों देवी के दरवार में आज बटेगा मां का खजाना

शिवपुरी। नवरात्रि के आठवे दिन आज दुर्गाष्टमी की धूम है। सुबह से ही मंदिरों पर भक्तों का तांता लगा हुआ है। जहां कन्या पूजन के साथ कन्या भोजन और भंडारे आयोजित हो रहे हैं। मंदिर पर आने वाले भक्तों को विभिन्न समाजसेवी संस्थाएं प्रसाद के रूप में पूड़ी सब्जी का वितरण कर रही हैं। शहर के प्राचीन मंदिर राज राजेश्वरी, कैला देवी और काली माता मंदिर सहित अनेकों पांडालों में भंडारों का आयोजन हो रहा है। वहीं कल नवमी पूजन पर भी यह सिलसिला जारी रहेगा। हनुमान गली में वैष्णो देवी के दरबार में रात्रि में कई धार्मिक कार्यक्रम होंगे जिनमें सुंदरकाण्ड भी होगा। रात्रि में माँ वैष्णो को छप्पन भोग का प्रसाद अर्पित किया जाएगा और फूल बंगला सजाया जाएगा।

नवरात्रि के आठवे और नवे दिन माँ दुर्गा की विशेष पूजा की जाती है। मंदिरों सहित घर-घर माँ दुर्गा के इन रूपों की पूजा होती है। इस दिन घरों में भी माँ के लिए छप्पन प्रकार के भोग अर्पित किए जाते हैं। कई मंदिरों पर आज के दिन मेले भी भरते हैं। राजेश्वरी मंदिर पर अष्टमी और नवमी को मेला लगता है जहां बड़ी संख्या में भक्त माँ की पूजा के लिए सुबह से ही पहुंच रहे हैं।

जगह-जगह पूड़ी सब्जी और हलवा का वितरण हो रहा है। काली माता मंदिर झांसी रोड पर युवा मंडली द्वारा भक्तों के लिए पूड़ी सब्जी का वितरण सुबह से ही कराया जा रहा है जो दोपहर तक अनवरत चलता रहा और हजारों की संख्या में भक्तों ने यहां प्रसाद ग्रहण किया। मंदिरों पर विशेष विद्युत सज्जा की गई है जो लोगों के आकर्षण का केन्द्र बन रही है। कल नवमी के दिन माँ की पूजा अर्चन के साथ ही नवरात्रि का समापन किया जाएगा।

बदरवास नगर के प्रसिद्ध मंदिर मां भुवनेश्वरी पर अष्ठमी के उपलक्ष में आज शाम 56 भोग के साथ विशाल महाआरती की जाएगी। छप्पन भोग समिति के शांतम अग्रवाल, तरंग अग्रवाल, सूरज गुप्ता, गौरव गुप्ता व मयूर आदि ने बताया की पछले दस वर्ष की भांति इस वर्ष भी भुवनेशरी मंदिर गढ़ी पर छप्पन भोग बड़े ही हर्ष के साथ लगाया जा रहा है। जिसमें फूल बंगला 56 भोग ढोल नगाड़ों के साथ महाआरती की जाएगी। आरती के बाद छप्पन भोग भक्तों में वितरित किया जायेगा। समिति ने सभी भक्तों से आग्रह किया है की आरती में उपस्थित होकर धर्मलाभ अर्जित करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *