Cancer Horoscope 2023: कर्क राशि वाले जातकों के लिए कैसा रहेगा साल 2023? यहाँ पढ़ें वार्षिक राशिफल

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि आर्थिक दृष्टिकोण से यह वर्ष अच्छा रहेगा। अष्टम भाव में शनि कुछ अचानक से होने वाले धन लाभ की तरफ संकेत कर रहे हैं, वहीं कुछ पारिवारिक संपत्ति के मामले इस वर्ष निपट सकते हैं।

पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर जोधपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि कर्क राशि के जातकों के लिए यह वर्ष एक नए जीवन की शुरुआत लेकर आया है। जिसमें आपको कई उपलब्धियां प्राप्त होंगी। मान सम्मान बढ़ेगा। कारोबार में अचानक वृद्धि देखने को मिलेगी। इस वर्ष भाग्य आपका साथ देगा। अध्यात्म की तरफ आपका रुझान बढ़ेगा। जो लोग विदेश जाकर जीवन व्यतीत करना चाहते हैं, उन्हें इस वर्ष यह अवसर प्राप्त हो सकता है। कर्क राशि के जातकों के लिए शनि उनके सप्तम और अष्टम भाव के स्वामी होकर अष्टम भाव में ही विराजमान होंगे, जिसके फलस्वरूप आपको छिपे हुए धन की प्राप्ति हो सकती है। ससुराल पक्ष से लाभ हो सकता है। हालांकि शादीशुदा जिंदगी में थोड़ा तनाव रह सकता है, परंतु आर्थिक तौर पर यह वर्ष आपके लिए बेहद लाभकारी रहने वाला है। कर्क लग्न और सप्तम भाव में शनि के विराजमान होने से शनि की पूर्ण दृष्टि लग्न भाव पर रहेगी, जिसके चलते रिश्ते को लेकर मन में परेशानी रह सकती है। पति-पत्नी में आपसी तनाव इतना बढ़ सकता है, कि आपका मन हमेशा व्यथित रहेगा। इस अवधि में आपको स्वास्थ्य का भी खासतौर पर ध्यान रखना होगा, क्योंकि शनि आपके अष्टम भाव के भी स्वामी हैं, इसलिए इस अवधि में आप कोई बड़ी बीमारी की चपेट में आ सकते हैं। समय-समय पर डॉक्टरी सलाह लेते रहें। इस वर्ष धन के आगमन में तो कमी नहीं आएगी, परंतु धन खर्च में अधिकता हो सकती है और यह धन खर्च स्वास्थ्य को लेकर बढ़ने की आशंका है।

कैरियर 

ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि कॅरियर के हिसाब से यह वर्ष कुछ बेहतरीन होने वाला है। देव गुरु बृहस्पति भाग्य भाव में अप्रैल तक आपके हर कार्य में सहायक होते नजर आ रहे हैं । 17 जनवरी से शनि का गोचर आपकी राशि से अष्टम भाव पर होगा एक तरफ शनि की ढैया की शुरुआत तो दूसरी तरफ कुछ नई संभावनाएं भी शनि के अष्टम गोचर से आपको मिलेंगी। राहु और केतु का गोचर पहले से ही कुछ परिवर्तन की संभावनाएं दे रहा है। अप्रैल के बाद जैसे ही देव गुरु बृहस्पति का प्रवेश मेष राशि पर होगा। कार्य से संबंधित कुछ सावधानियों का समय शुरू हो जाएगा। शनि के अष्टम भैया भी यह संकेत करती है कि जल्दबाजी में कोई निर्णय न लिया जाए। नौकरीपेशा लोग अगर स्थानांतरण के प्रतीक्षा कर रहे हैं तो शनि का गोचर उनके लिए लाभदायक साबित होगा। मनपसंद जगह पर स्थानांतरण हो सकता है लेकिन नौकरी में कड़ी मेहनत से ही अच्छे परिणाम मिलेंगे या भी संकेत मिलता है। साल 2023 करियर के लिहाज से अच्छा रहने की संभावना है। करियर के क्षेत्र में अप्रैल आपके लिए अच्छे योग बना रहा है। इस दौरान जो लोग नई नौकरी या मनचाही नौकरी की तलाश में हैं उन्हें इस कार्य में सफलता मिल सकती है। नौकरी को लेकर शिकायत करने वालों को भी इस अवधि में अपनी मेहनत के अनुसार अच्छा फल मिलने की प्रबल संभावना है। साल 2023 के अंतिम कुछ महीनों में आपका भाग्य आगे बढ़ने के आसार हैं। इस अवधि में आप करियर के क्षेत्र में नई ऊंचाईयों को छू सकते हैं।

आर्थिक स्थिति 

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि आर्थिक दृष्टिकोण से यह वर्ष अच्छा रहेगा। अष्टम भाव में शनि कुछ अचानक से होने वाले धन लाभ की तरफ संकेत कर रहे हैं, वहीं कुछ पारिवारिक संपत्ति के मामले इस वर्ष निपट सकते हैं। देवगुरु बृहस्पति का गोचर नवम और दशम भाव में रहेगा इससे भाग्य के प्रभाव से भी यह वर्ष आर्थिक मामलों में अच्छा जाएगा। अगर कोई प्रॉपर्टी में निवेश करना चाहते हैं या मकान लेना चाहते हैं तो यह वर्ष आपके लिए अच्छा रहेगा।  अष्टम भाव में शनि की उपस्थिति होने से कुछ खर्चे भी बराबर लगे रहेंगे। दीर्घकालीन निवेश से आपको धन लाभ के योग बनेंगे और आपकी आर्थिक योजनाएं सफलता प्राप्त करेंगी। बृहस्पति भाग्य स्थान को प्रभावित करते हुए आपके भाग्य को प्रबल बनाएंगे जिससे धन और लाभ के मामलों में आपको सफलता मिलेगी। आपको अपने निजी प्रयासों से धन लाभ कराएगा। इस दौरान सरकारी क्षेत्र से भी आपको फायदा पहुंच सकता है। कुछ ना कुछ उतार-चढ़ाव बने रहने की संभावना रहेगी। हालांकि वर्ष के अंत तक आपके पास अच्छी मात्रा में धन की उपलब्धता रहेगी।

परिवार

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि राहु और केतु पिछले कुछ समय से आपके परिवारिक जीवन में कुछ उथल पुथल का वातावरण बना कर रखे हुए हैं। कर्क राशि के जातकों के लिए उतार चढ़ाव से भरा वर्ष रहने वाला है। जनवरी से लेकर अप्रैल तक आपको अपने पारिवारिक जीवन में तनाव का सामना करना पड़ सकता है। राहु और केतु का प्रभाव चौथे और दसवें भाव पर रहेगा और शनि अष्टम भाव में बैठकर आपके दूसरे और पंचम भाव पर प्रभाव डालेंगे। जनवरी में मंगल भी आपके दूसरे और पांचवें भाव को देखेंगे इसलिए वर्ष के शुरुआती महीनों में पारिवारिक जीवन में तनाव देखने को मिलेगा और इससे आपका मन थोड़ा व्यथित होगा। मई के महीने में गुरु और राहु का चांडाल दोष निर्मित होगा जिसका प्रभाव आपके पारिवारिक जीवन को भी प्रभावित करेगा और पिताजी की सेहत में गिरावट हो सकती है और परिवार का माहौल कुछ बिगड़ सकता है लेकिन अक्टूबर के बाद से आपका पारिवारिक जीवन बहुत ही खुशहाल रहेगा। पारिवारिक सदस्यों को एक दूसरे से सामंजस्य बिठाने में कोई समस्या नहीं आएगी लेकिन इसी अक्टूबर के महीने में माता जी की सेहत बिगड़ सकती है। यदि उनका ठीक से ध्यान रखेंगे तो नवंबर तक सेहत में सुधार हो जाएगा। उसके बाद नवंबर और दिसंबर के महीने अच्छे व्यतीत होंगे।

प्रेम-रोमांस 

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि वर्ष 2023 में कर्क राशि के लोगों के प्रेम संबंधों में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी रहेगी। वर्ष की शुरुआत में मंगल की दृष्टि पंचम भाव पर होने से तनाव और टकराव की स्थिति बन सकती है लेकिन बृहस्पति महाराज की कृपा दृष्टि आपके रिश्ते को बचाए रखेगी। अप्रैल तक कई परेशानियों के बावजूद आप अपने रिश्ते को संभाले रखने में कामयाब रहेंगे। मई के महीने में रिश्ते में तनाव बढ़ेगा और आपके काम का प्रभाव आपके प्रेम संबंधों में तनाव बढ़ा सकता है। उसके बाद आप अपने रिश्ते में काफी अनुकूलता और सहजता महसूस करेंगे। जून के महीने में आपके रिश्ते में अंतरंग संबंधों की बढ़ोतरी होगी और आप अपने रिश्ते को आगे बढ़ाने का विचार करेंगे और विवाह के संबंध में विचार बना सकते हैं। वर्ष का अंतिम महीना आपके रिश्ते में रोमांस बढ़ाएगा और आप अपने प्रियतम के साथ खुशी भरे पल का लुत्फ उठाएंगे। वर्ष 2023 कर्क राशि के जातकों के लिए वैवाहिक जीवन में थोड़ी परेशानियां ला सकता है। इस वर्ष शनि आपके सप्तम और अष्टम भाव के स्वामी होकर अष्टम में विराजमान होंगे, जिसके फलस्वरूप आपका मन वैवाहिक जीवन से हट सकता है। इस समय में आप अकेला रहना ज्यादा पसंद करेंगे। जीवनसाथी से आकर्षण की कमी महसूस हो सकती है। जो जातक विवाह के लिए संबंध तलाश रहे हैं, उनकी तलाश अभी जारी रहेगी। इस वर्ष उनका विवाह बंधन में बंधना थोड़ा कठिन लग रहा है।

शिक्षा

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि कर्क राशि के छात्रों के लिए वर्ष की शुरुआत अच्छी रहेगी पंचम भाव पर देव गुरु बृहस्पति की दृष्टि कुछ अच्छी संभावनाओं का संकेत करती है। चौथे भाव में चल रहे राहु आपको कुछ मानसिक रूप से परेशान कर सकते हैं साथ ही शनि की ढैया वर्ष के प्रारंभ में ही शुरू हो जाएगी इसलिए एकाग्रता और अपनी पढ़ाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होगी जो छात्र विदेश में दाखिले के लिए प्रतीक्षा कर रहे थे उनका सपना इस वर्ष पूरा हो सकता है।यदि आप अपने अंतिम वर्षों में है तो आपका कैंपस इंटरव्यू में चयन हो सकता है और आपको अच्छा पैकेज भी मिल सकता है। वर्ष का पूर्वार्ध उच्च शिक्षा के लिए अत्यंत अनुकूल रहने की संभावना है। इस दौरान किए गए प्रयास सफलता लेकर आएंगे और आपको अपने मनपसंद विषय पढ़ने का और मनपसंद पाठ्यक्रम में दाखिला प्राप्त होने का शुभ अवसर प्राप्त हो सकता है। यदि आप विदेश जाकर पढ़ाई का सपना देख रहे हैं तो आप की यह इच्छा मार्च से जून के बीच पूरी हो सकती है, जब आपको विदेश जाकर पढ़ने का मौका मिलेगा।

स्वास्थ्य 

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि इस वर्ष स्वास्थ्य के मामले में आपको कुछ विशेष ध्यान देने की जरूरत रहेगी। 17 जनवरी से शुरू हो रही शनि की ढैया कुछ मानसिक तनाव देगी। शनि की द्वितीय भाव पर दृष्टि कुछ कुटुंब के मामलों में विवाद के कारण आपका स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। अष्टम भाव में शनि का गोचर वैसे तो बहुत निराशाजनक नहीं है लेकिन कुछ अचानक से होने वाली बीमारियां आपको परेशान कर सकती हैं। आपके छठे भाव के स्वामी बृहस्पति इस वर्ष अप्रैल तक मीन में उसके पश्चात मेष राशि में रहेंगे इसका अर्थ है कि छठे भाव पर अप्रैल के बाद देवगुरु बृहस्पति की दृष्टि स्वास्थ्य के लिहाज से किसी बड़ी समस्या के ना बनने का संकेत करती है फिर भी कुछ सावधानियां रखनी चाहिए। योग व्यायाम नियमित रूप से करना चाहिए।मई का महीना स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से सबसे कमजोर महीना साबित हो सकता है। इस दौरान आपको छाती या फेफड़ों का संक्रमण हो सकता है या सर्दी लगने से निमोनिया की शिकायत भी हो सकती है। इस दौरान आपको यदि आराम ना पड़े तो डॉक्टर बदलने की सलाह भी हमारी तरफ से दी जा रही है। जून-जुलाई में स्वास्थ्य अनुकूल रहेगा और स्वास्थ्य संबंधित किसी पुरानी समस्या से आपको निजात भी मिल सकती है। अगस्त से सितंबर के बीच अपना ध्यान ना रखने और लापरवाही वाला रवैया अपनाने से आपको कुछ सामान्य शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है इसलिए यदि आप अच्छा खानपान रखते हैं तो बहुत हद तक समस्याओं से बच सकते हैं। नवंबर और दिसंबर के महीने स्वास्थ्य में सुधार की ओर संकेत देते हैं।

ज्योतिष उपाय

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि रोज सुबह सूर्य को जल अर्पित करें। इस जल में थोड़ा सा गुड़ मिला लें। भगवान शिव को अक्षत अर्पित करें और शिवलिंग का अभिषेक करें।

– डा. अनीष व्यास

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *