Libra Horoscope 2023: तुला राशि वाले जातकों के लिए कैसा रहेगा साल 2023? यहाँ पढ़ें वार्षिक राशिफल

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि तुला राशि के जातकों को इस वर्ष अच्छे परिणामों की प्राप्ति होगी। वर्ष की शुरुआत से ही जब शनि जनवरी के महीने में पंचम भाव में आकर आपके सप्तम और एकादश भाव पर दृष्टि डालेंगे।

पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर जोधपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि तुला राशि के जातकों के लिए यह वर्ष मिले-जुले प्रभाव लेकर आएगा। किसी क्षेत्र में सकारात्मक तो किसी क्षेत्र में नकारात्मक प्रभाव प्राप्त होंगे। सकारात्मक प्रभावों की बात करें, तो व्यापार, नौकरी तथा शिक्षा के क्षेत्र में सकारात्मकता रहेगी। इसके विपरीत अगर नकारात्मकता की बात करें, तो पति-पत्नी के रिश्ते में नकारात्मकता रह सकती है। इसके साथ ही वर्ष के कुछ हिस्से में स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों का भी सामना करना पड़ सकता है। इस वर्ष शनि आपकी कुंडली के चौथे और पांचवें घर के स्वामी होकर पंचम भाव में ही विराजमान होंगे, जिसके फलस्वरूप आपको शिक्षा में सफलता प्राप्त होगी। आपको शिक्षा में उन्नति देखने को मिलेगी। इस समय में शनि की दृष्टि आपके सप्तम भाव पर रहेगी, जिस वजह से आपके संबंध आपके जीवनसाथी से खराब हो सकते हैं। अप्रैल के बाद स्थिति और खराब हो सकती है, क्योंकि आपके बृहस्पति भी सप्तम भाव में गोचर करेंगे, जहां उनकी युति राहु के साथ होगी तथा आपका सप्तम भाव खराब तरह से प्रभावित होगा। क्योंकि शनि की भी तृतीय दृष्टि आपके सप्तम भाव पर होगी। जिसके फलस्वरूप पति-पत्नी के रिश्ते में तनाव आना तो लगभग तय है। यह स्थिति इतनी विपरीत हो सकती है, कि तलाक तक की नौबत आ सकती है। तथा जो लोग तलाक की तरफ अग्रसर हो रहे हैं, उनका तलाक होने की संभावना रहेगी। पति-पत्नी के रिश्ते में अनबन, गलतफहमियां तथा मनमुटाव लगा रहेगा।

कैरियर 

ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि साल 2023 कॅरियर के लिहाज से अच्छा रहेगा। जो लोग व्यापार करते हैं उन्हें इस अवधि में अधिक से अधिक लाभ मिलेगा। नौकरी में इस अवधि में प्रमोशन भी मिलेगा, जिससे आपके वेतन में वृद्धि संभव है। आपके कार्यक्षेत्र में आपके वरिष्ठों और बॉस के साथ विवाद हो सकता है। दिसंबर में कॅरियर से जुड़े सभी विवाद खत्म होंगे और आप अपने संबंधों में सुधार लाने में सफल रहेंगे। इस वर्ष शनि की ढैया से आपको छुटकारा मिलेगा और शनि एक योगकारक ग्रह के रूप में आपके लिए सहायक बनेंगे। राहु और केतु का गोचर साझेदारी में किसी व्यवसाय को ना करने की सलाह देता है देव गुरु बृहस्पति कार्यक्षेत्र में आने वाली बाधाओं से आपको बचाएंगे और अप्रैल के बाद आपके कार्य में कुछ नया होने का संकेत भी देते है। जो लोग नौकरी कर रहे हैं उनके नौकरी में बदलाव लेकर आ सकते हैं। यदि आप किसी नई नौकरी की तलाश में हैं तो इस दौरान आपको नई नौकरी प्राप्त हो सकती है। आपकी नौकरी जा सकती है और उसके बाद आपको एक अच्छी नौकरी प्राप्त हो सकती है। यदि आप सरकारी सेवा में हैं तो इस दौरान आपका किसी बढ़िया और अच्छी जगह स्थानांतरण भी हो सकता है।

आर्थिक स्थिति 

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि तुला राशि के जातकों को इस वर्ष अच्छे परिणामों की प्राप्ति होगी। वर्ष की शुरुआत से ही जब शनि जनवरी के महीने में पंचम भाव में आकर आपके सप्तम और एकादश भाव पर दृष्टि डालेंगे। यह आपकी आमदनी के लिए बहुत बढ़िया रहेगा। वित्तीय स्थिति को सुधारने में शनि की इस वर्ष महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। बची-कूची कसर बृहस्पति अप्रैल में पूरी कर देंगे, जब वे सप्तम भाव में बैठकर आपके प्रथम भाव, तीसरे भाव और एकादश भाव को देखेंगे। इन ग्रहों की कृपा से आप की वित्तीय स्थिति में संतुलन बना रहेगा। यही आपको कोशिश करनी होगी कि यह संतुलन ना बिगड़े। हालांकि, जब राहु का गोचर आपकी छठे भाव में अक्टूबर के अंत में होगा, तब से आप के खर्चों में आशातीत बढ़ोतरी होने के योग बनेंगे। उस दौरान विशेष रूप से आपको ध्यान देना होगा, नहीं तो आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है। वित्तीय मामलों में चुनौती का सामना करना पड़ सकता है। कुछ वित्तीय जोखिम लेना चाहें तो उसके लिए वर्ष के अंतिम महीने अच्छे रहेंगे। कहीं प्रॉपर्टी में कोई निवेश किया है तो इस वर्ष उससे लाभ मिल सकता है।जो लोग शेयर मार्केट का व्यवसाय करते हैं उनके लिए यह वर्ष अच्छा साबित होगा किंतु साझेदारी में कोई व्यवसाय ना करें इससे आर्थिक क्षति हो सकती है।

परिवार

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि साल 2023 में रिश्तों में सामान्य परिणाम मिलेंगे। आपको कुछ पारिवारिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। अपने पुराने दोस्तों पर जाएँ। उन्हें बड़ों का आशीर्वाद प्राप्त होगा, साथ ही परिवार में आपकी छवि भी अच्छी बनेगी और घर में आपको उचित सम्मान प्राप्त होगा। पिता के साथ आप खुलकर बात कर पाएंगे। पिता आपका मार्गदर्शन और समर्थन करेंगे। भाई-बहन के साथ बहुत अच्छा समय बीतेगा। साल का प्रारंभ शनि की ढैया की समाप्ति से हो रहा है परिवारिक जीवन में चली आ रही मानसिक परेशानियां समाप्त हो जाएंगी। संतान के संबंध में कोई सुखद समाचार इस वर्ष मिल सकता है जो जातक संतान के इच्छुक हैं उनकी मनोकामना पूरी हो सकती है किंतु जीवन साथी के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना चाहिए। जीवनसाथी  के साथ कभी कभी कुछ टकराव की स्थितियां भी बनेंगी यह स्थिति अप्रैल तक रहेगी अप्रैल के बाद स्थितियां सामान्य हो जाएंगी।

प्रेम-रोमांस 

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि प्रेम जीवन में सकारात्मक परिणाम मिलने की संभावना है। आपका गुस्सैल और आक्रामक स्वभाव आपके प्रेमी को परेशान कर सकता है। आपको कुछ सकारात्मक परिणाम मिलेंगे। आपके बीच प्यार बढ़ेगा। आप अपने रिश्ते को अगले स्तर पर ले जाने में सक्षम होंगे। आप अपने प्रेमी से विवाह करने का भी फैसला ले सकते हैं। आप दोनों एक दूसरे के प्रति अपनी भावनाओं को स्पष्ट रूप से व्यक्त कर पाएंगे। आप एक दूसरे को खुलकर अपनी बात समझाने में सफल रहेंगे। वैवाहिक जीवन को लेकर आप कुछ परेशानियां महसूस कर सकते हैं। वर्ष की शुरुआत में ही राहु आपके सप्तम भाव में विराजमान रहेंगे। जब जनवरी में शनि का गोचर भी आपके पंचम भाव में होगा तो वह भी अपनी तीसरी दृष्टि से आपके सप्तम भाव को देखेंगे। इस प्रकार दो क्रूर ग्रहों का प्रभाव सप्तम भाव में होने से दांपत्य जीवन में तनाव बढ़ेगा। जीवन साथी से लड़ाई झगड़े की स्थिति बन सकती है। उनका स्वास्थ्य भी पीड़ित हो सकता है। यहां पर मंगल महाराज भी 13 मार्च तक आपके अष्टम भाव में ही विराजमान रहेंगे। यह समय दांपत्य जीवन के लिए अच्छा समय नहीं कहा जाएगा ।

शिक्षा

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि इस वर्ष आपको शिक्षा के क्षेत्र में अपार सफलता मिलेगी। प्रारंभिक काल में ग्रहों की चाल दर्शाती है कि इस समय आपको अपने आप को पूरी तरह से और विशेष रूप से अपने सीखने पर ध्यान केंद्रित करते हुए अधिक मेहनत करने की आवश्यकता होगी। मंगल आपके चतुर्थ भाव को प्रभावित करेगा। इस दौरान छात्रों को शिक्षा के क्षेत्र में उनकी मेहनत का फल मिलेगा। शनि का गोचर आपकी राशि के पांचवें और छठे भाव में होना आपके लिए और मुश्किलें खड़ी करेगा। आपका आलस्य बढ़ेगा और आपका भ्रमित मन भी आपको परेशानी में डाल सकता है। ऐसे में एकाग्र मन से अपना पूरा ध्यान अपनी पढ़ाई पर लगाएं। छात्रों के लिए यह वर्ष अच्छा साबित होने वाला है शनि का गोचर वर्ष की शुरुआत से ही आपके पांचवें भाव पर होगा इसके बाद की जो स्थितियां रहेंगी वह आपके लिए बेहतर होंगी। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्र इस वर्ष सफलता प्राप्त कर सकते हैं अप्रैल तक देव गुरु बृहस्पति उनके लिए सहायक साबित होंगे।

स्वास्थ्य 

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि स्वास्थ्य के मामले में या वर्ष कुछ बेहतर साबित होगा चली आ रही मानसिक परेशानियों से इस वर्ष छुटकारा मिलेगा। यदि उदर के रोगों से संबंधित कुछ परेशानियां हैं तो उनसे आपको इस वर्ष राहत मिलेगी। छठे भाव में देवगुरु बृहस्पति का गोचर आपके अच्छे स्वास्थ्य का संकेत करता है किंतु अप्रैल के बाद स्वास्थ्य संबंधी सावधानियां बरतनी होंगी अन्यथा किसी बीमारी के चपेट में आ सकते हैं नियमित रूप से योगाभ्यास करें।उसके बाद मई से जून के बीच फिर से सेहत बिगड़ सकती है इसलिए आपको ध्यान देना ही होगा। अगस्त के बाद से धीरे-धीरे स्वास्थ्य में सुधार आना शुरू होगा और आप अपने स्वास्थ्य के प्रति ज्यादा संजीदा हो जाएंगे। इसी के साथ आप अपने स्वास्थ्य को उत्तम बनाने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। यही सोच आपको अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करेगी और आप पुरानी बीमारियों से धीरे-धीरे बरी हो जाएंगे। जैसे ही नवंबर का महीना आएगा, आप अचानक से काफी राहत महसूस करेंगे और स्वास्थ्य में मजबूती आएगी।

ज्योतिष उपाय

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि प्रतिदिन श्री सूक्त का पाठ करें। गाय की सेवा करें। कन्याओं के पैर छूकर उनका आशीर्वाद प्राप्त करें। मां लक्ष्मी, मां दुर्गा तथा मां संतोषी की पूजा करनी चाहिए।

– डा. अनीष व्यास

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *