भगवान श्रीकृष्ण

शरद पूर्णिमा के दिन अनुष्ठान करने से सभी कामों में मिलती है सफलता

मान्यता है कि इसी दिन श्रीकृष्ण ने महारास रचाया था और यह भी मान्यता प्रचलित है कि इस रात्रि को चंद्रमा की किरणों से अमृत बरसता है। इसी कारण से उत्तर भारत में इस दिन खीर बनाकर रात भर चांदनी में रखने का विधान है। आश्विन मास की पूर्णिमा का दिन शरद पूर्णिमा के नाम …

शरद पूर्णिमा के दिन अनुष्ठान करने से सभी कामों में मिलती है सफलता Read More »

भगवान श्रीकृष्ण का मध्यप्रदेश से क्या था खास संबंध?

धार्मिक ग्रंथों में उल्लेख मिलता है कि 11 साल 7 दिन की आयु में भगवान कृष्ण अपने मामा कंस का वध करने के बाद बाबा महाकाल की नगरी अवंतिका में आए थे। यहां उन्होंने 64 दिनों तक रहकर पढ़ाई की थी। आश्रम में भगवान कृष्ण की बैठे हुई मुद्रा में मूर्ति के दर्शन होते हैं। …

भगवान श्रीकृष्ण का मध्यप्रदेश से क्या था खास संबंध? Read More »

Janmashtami 2022: भगवान श्रीकृष्ण की अलौकिक लीलाएं और जीवन दर्शन

वसुदेव ने भगवान की आज्ञा पाकर शिशु को छाज में रखकर अपने सिर पर उठा लिया। यमुना में प्रवेश करने पर यमुना का जल भगवान श्रीकृष्ण के चरण स्पर्श करने के लिए हिलोरें लेने लगा और जलचर भी श्रीकृष्ण के चरण स्पर्श के लिए उमड़ पड़े। जन्माष्टमी का त्यौहार प्रतिवर्ष भाद्रपक्ष कृष्णाष्टमी को भगवान श्रीकृष्ण …

Janmashtami 2022: भगवान श्रीकृष्ण की अलौकिक लीलाएं और जीवन दर्शन Read More »